राष्ट्रीय युद्ध स्मारक

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक, National War Memorial, India Gate, New Delhi

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक (National War Memorial) भारत सरकार द्वारा नई दिल्ली के इंडिया गेट के आसपास के क्षेत्र में एक स्मारक का निर्माण किया गया है। जो अपने सशस्त्र बलों को सम्मानित करता है। नई दिल्ली का राष्ट्रीय युद्ध स्मारक 40 एकड़ भूमि में फैला हुआ है। जो अमर जवान ज्योति से पूर्व और इंडिया गेट परिसर में है।

"राष्ट्रीय युद्ध स्मारक, Chakra Architecture, National War Memorial

वास्तुकला और डिजाइन

यह ‘चक्रव्यूह’ के निर्माण से प्रेरणा लेता है। चार संकेंद्रित गोलाकार के रूप में मुख्य संरचना, प्रत्येक चक्र सशस्त्र बलों के विभिन्न मूल्यों को दर्शाता है।

Suggestion to Read: Lansdowne Hill Station

रक्षक चक्र (Circle of Protection)

सबसे पहले रक्षा चक्र में 600 पेड़ लगाए गए हैं। जो देश की रक्षा करने वाले सैनिकों का प्रतिनिधित्व करते हैं। रक्षक चक्र को सुरक्षा के चक्र भी कहा जाता है ।

त्याग चक्र (Circle of Sacrifice)

"<yoastmark
त्याग चक्र

दूसरा चक्र त्याग चक्र (बलिदान का वृत्त) ग्रेनाइट ईंटों से बना है। जिसमें 25,942 नायको के नाम उनकी रैंक और रेजिमेंट के अनुसार, स्वर्ण अक्षरों  में उत्कीर्ण है। 1947, 1962, 1965, 1971 और 1999 के युद्धों में शहीद होने वाले सैनिकों के अलावा उन नायकों के नाम भी शामिल हैं। जो श्रीलंका में भारतीय शांति रक्षा बल के ऑपरेशन में शहीद हुए थे, वे भी त्याग चक्र में शामिल हैं।

वीरता चक्र (Circle of Bravery)

Veerta Chakra, National War Memorial, India Gate
वीरता चक्र

तीसरा वीरता चक्र थल सेना, वायु सेना और नौसेना की छह महत्वपूर्ण लड़ाइयों के बारे में है। जो कि भारतीय सेना द्वारा लड़ी गई। इन लड़ाइयों के बारे में गैलरी की दीवारों पर कांस्य की धातु में चित्र अंकित है।

अमर चक्र  (Circle of Immortality)

Amar Chakra, National War Memorial
अमर चक्र

उसके बाद अमर चक्र सबसे अंतरिम चक्र है। इसमें 15.5 मीटर लंबा ग्रेनाइट स्मारक स्तम्भ है, जो अनन्त लौ के साथ उन नायकों को श्रद्धांजलि देता है, जिन्होंने कर्तव्य के पथ पर अपने जीवन का बलिदान दिया। स्मारक का निर्माण ग्रेनाइट और बलुआ पत्थर पर आधारित है, जिसे राजस्थान से लाया गया था। स्मारक के पूरे पत्थर का काम, किशोर कपूर के Star Mercantile द्वारा किया गया था। जिसमें स्मारक स्तम्भ भी शामिल था। स्मारक बनाने के लिए 22 पेड़ काटे गए और उनकी जगह 715 पौधे लगाए गए।

Suggestion to Read: Haridwar

परम योद्धा स्थल

Param Yodha Sthal, National War Memorial
परम योद्धा स्थल

मुख्य स्मारक के पास में परम योद्धा स्थल स्थित है। ये स्थल परमवीर चक्र पुरस्कार विजेताओं को श्रद्धांजलि अर्पित करती है, जिनमें से प्रत्येक को उनके वीरता की कहानियों के साथ कांस्य की प्रतिमा के रूप स्थापित किया गया है। और यह जगह हरे भरे रास्ते पर है।

Suggestion to Read: National War Memorial in English

राष्ट्रीय युद्ध संग्रहालय

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक, National War Memorial

A War Museum का निर्माण Princess Park Area में हुआ है। Princess Park, India Gate के उत्तर में एक 14-एकड़ क्षेत्र है। राष्ट्रीय युद्ध संग्रहालय और स्मारक एक भूमिगत मार्ग के द्वारा जुड़ा हुआ है। 1947-48, 1961 (गोवा), 1962 (चीन), 1965, 1971, 1987 (सियाचिन), 1987-88 (श्रीलंका), 1999 (कारगिल) के दौरान शहीदों के नाम, और इसी तरह ऑपरेशन रक्षक जैसे अन्य में शहीद हुए जवानों के नाम दीवारों पर उत्कीर्ण हैं।

यह भारत का पहला युद्ध स्मारक

दिल्ली के इस स्मारक से पहले कई और युद्ध स्मारक हैं। चंडीगढ़ में 8,459 शहीदों के नाम के साथ युद्ध स्मारक है। पुणे छावनी में राष्ट्रीय युद्ध स्मारक दक्षिणी कमान है, जो स्वतंत्रता के बाद लड़े गए युद्धों के शहीदों को समर्पित है। तवांग, भोपाल, विशाखापत्तनम, दार्जिलिंग और द्रास कुछ अन्य स्थान हैं जहाँ आप भारत के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि दे सकते हैं।

और उन सभी में सबसे प्रसिद्ध इंडिया गेट नई दिल्ली में है। जो ब्रिटिश भारतीय सेना के 70,000 सैनिकों को श्रद्धांजलि है, जो आजादी से पहले विभिन्न अभियानों के दौरान शहीद हो गए थे।

प्रस्ताव से समापन

1960 : इस Rastriya Yudh Smarak का प्रस्ताव पहली बार 1960 के दशक में बनाया गया था। दशकों में कई बार मांग दोहराई गई।

2012: रक्षा मंत्री ने कहा कि इंडिया गेट पर मेमोरियल का निर्माण किया जाएगा, लेकिन कार्यकर्ता स्थल के चुनाव का विरोध करते रहे।

2015: सरकार ने C-Hexagon में एक राष्ट्रीय युद्ध स्मारक और इंडिया गेट के पास Princess Park में एक राष्ट्रीय युद्ध संग्रहालय बनाने की परियोजना को मंजूरी दे दी, जिसमे आजादी के बाद के शहीदों को याद किया जायेगा।

2016: मेमोरियल के डिजाइन को तय करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता आयोजित की गई।

2017: मार्च में, Architect and Planner Christopher Benninger के नेतृत्व में जजों ने WeBe Design Ltd. के योगेश चंद्रहासन द्वारा प्रविष्टि ली।

2018: NCC Ltd, हैदराबाद ने प्रोजेक्ट कंसल्टेंट के रूप में चंद्रहासन के साथ फरवरी में निर्माण शुरू किया। परियोजना को तैयार करने वाले योगेश चंद्रहासन ने कहा –

“पूरी अवधारणा इस सोच पर आधारित है कि युद्ध स्मारक एक ऐसी जगह होनी चाहिए जहाँ हम मृत्यु पर शोक नहीं मनाते हैं, लेकिन सैनिकों के जीवन का जश्न मनाते हैं और उनके द्वारा किए गए बलिदानों का सम्मान करते हैं। “

2019: 25 February 2019 को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक को प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने देश को समर्पित किया।

Suggestion to Read: Baba Neem Karoli, Kainchi Dham, Nanital

प्रवेश शुल्क – समय सीमा

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में प्रवेश निःशुल्क है। इसलिए आपको कुछ भी भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।

आप सुबह 9 बजे से शाम 6:30 बजे (नवंबर से मार्च) और 9 बजे से 7:30 बजे (अप्रैल से अक्टूबर) तक राष्ट्रीय युद्ध स्मारक की यात्रा कर सकते हैं।

कैसे पहुंचे

दिल्ली, मेट्रो और राज्य द्वारा संचालित बसों के माध्यम से अन्य राज्यों से अच्छी तरह से connect है। राष्ट्रीय संग्रहालय के लिए निकटतम मेट्रो स्टेशन केंद्रीय सचिवालय या उद्योग भवन हैं, जो दोनों पीली लाइन पर हैं।  और वहां से स्थानीय रिक्शा इंडिया गेट के लिए उपलब्ध है।

YouTube Video

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक  साथ इसकी एक YouTube Video भी दी गई है

Click here: राष्ट्रीय युद्ध स्मारक

आपके Comments और Suggestions का स्वागत है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!